एमएसपी (MSP) क्या है? किसान MSP की मांग क्यों कर रहे हैं?

By ADARSH UMRAO

Published on:

Kisan Andolan क्यों कर रहे है: किसान दिल्ली क्यों आ रहे है ?

एमएसपी (MSP) क्या है?

न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) भारत सरकार द्वारा निर्धारित एक न्यूनतम मूल्य है, जिस पर सरकार किसानों से उनकी फसल खरीदने का वादा करती है। यह मूल्य विभिन्न कारकों पर आधारित होता है, जैसे कि उत्पादन लागत, बाजार मूल्य, और किसानों की आय।

किसान MSP की मांग क्यों कर रहे हैं?

एमएसपी (MSP) क्या है? किसान MSP की मांग क्यों कर रहे हैं?

किसान एमएसपी की मांग निम्नलिखित कारणों से कर रहे हैं:

1. आय में निश्चितता: एमएसपी किसानों को अपनी फसल के लिए एक निश्चित मूल्य प्रदान करता है, जिससे उन्हें अपनी आय में निश्चितता मिलती है।

2. अस्थिर बाजार से सुरक्षा: कृषि बाजार अस्थिर होता है, और फसलों की कीमतें अक्सर उतार-चढ़ाव करती रहती हैं। एमएसपी किसानों को इस अस्थिरता से सुरक्षा प्रदान करता है।

3. उत्पादन लागत की भरपाई: एमएसपी को इस तरह से निर्धारित किया जाता है कि यह किसानों की उत्पादन लागत को कवर करे और उन्हें उचित मुनाफा भी प्रदान करे।

4. कृषि क्षेत्र को प्रोत्साहन: एमएसपी कृषि क्षेत्र को प्रोत्साहन देता है और किसानों को खेती में निवेश करने के लिए प्रेरित करता है।

5. सरकार द्वारा समर्थन: एमएसपी किसानों को यह आश्वासन देता है कि सरकार उनके हितों का ध्यान रखती है और उन्हें उनकी फसल के लिए उचित मूल्य दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है।

6. MSP पर कानूनी गारंटी: किसान एमएसपी पर कानूनी गारंटी की मांग कर रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उन्हें उनकी फसल के लिए हमेशा MSP मिले।

7. MSP का विस्तार: किसान चाहते हैं कि MSP को सभी फसलों पर लागू किया जाए, वर्तमान में यह केवल 23 फसलों पर लागू होता है।

8. एमएसपी की गणना में बदलाव: किसान चाहते हैं कि एमएसपी की गणना स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार C2 + 50% फार्मूले के आधार पर की जाए।

नोट: एमएसपी एक जटिल मुद्दा है और इसके कई पक्ष हैं। कुछ लोगों का मानना ​​है कि एमएसपी किसानों के लिए फायदेमंद है, जबकि अन्य का मानना ​​है कि यह कृषि क्षेत्र के लिए हानिकारक है।

एमएसपी (MSP) क्या है? किसान MSP की मांग क्यों कर रहे हैं?

MSP (न्यूनतम समर्थन मूल्य) किसानों के लिए सही है या गलत इस पर विशेषज्ञों की राय विभाजित है।

MSP के पक्ष में तर्क:

  • आय में निश्चितता: एमएसपी किसानों को अपनी फसल के लिए एक निश्चित मूल्य प्रदान करता है, जिससे उन्हें अपनी आय में निश्चितता मिलती है।
  • अस्थिर बाजार से सुरक्षा: कृषि बाजार अस्थिर होता है, और फसलों की कीमतें अक्सर उतार-चढ़ाव करती रहती हैं। एमएसपी किसानों को इस अस्थिरता से सुरक्षा प्रदान करता है।
  • उत्पादन लागत की भरपाई: एमएसपी को इस तरह से निर्धारित किया जाता है कि यह किसानों की उत्पादन लागत को कवर करे और उन्हें उचित मुनाफा भी प्रदान करे।
  • कृषि क्षेत्र को प्रोत्साहन: एमएसपी कृषि क्षेत्र को प्रोत्साहन देता है और किसानों को खेती में निवेश करने के लिए प्रेरित करता है।
  • सरकार द्वारा समर्थन: एमएसपी किसानों को यह आश्वासन देता है कि सरकार उनके हितों का ध्यान रखती है और उन्हें उनकी फसल के लिए उचित मूल्य दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है।

MSP के खिलाफ तर्क:

  • बाजार विकृति: एमएसपी कृषि बाजार को विकृत करता है और कृषि उत्पादों की कीमतों को कृत्रिम रूप से बढ़ाता है।
  • सरकारी खर्च में वृद्धि: एमएसपी योजना पर सरकार का खर्च बहुत अधिक होता है, जो अन्य महत्वपूर्ण योजनाओं के लिए धन की कमी का कारण बन सकता है।
  • अक्षमता: एमएसपी योजना सभी किसानों तक नहीं पहुंच पाती है, और इसका लाभ मुख्य रूप से बड़े किसानों को होता है।
  • अनुचित उपयोग: कुछ किसान एमएसपी योजना का दुरुपयोग करते हैं और अपनी फसल को बाजार में बेचने के बजाय सरकार को बेचने का विकल्प चुनते हैं।

विशेषज्ञों की राय:

विशेषज्ञों की राय एमएसपी के पक्ष और विपक्ष दोनों में विभाजित है। कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एमएसपी किसानों के लिए आवश्यक है और उन्हें उनकी फसल के लिए उचित मूल्य दिलाने में मदद करता है।

अन्य विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एमएसपी कृषि बाजार के लिए हानिकारक है और इसे धीरे-धीरे समाप्त किया जाना चाहिए।

Kisan Andolan क्यों कर रहे है: किसान दिल्ली क्यों आ रहे है ?

निष्कर्ष:

एमएसपी एक जटिल मुद्दा है और इसके कई पक्ष हैं। यह महत्वपूर्ण है कि इस मुद्दे पर सभी पक्षों की राय को ध्यान में रखा जाए और एक ऐसा समाधान ढूंढा जाए जो किसानों और कृषि क्षेत्र के लिए सर्वोत्तम हो।

Yashasvi Jaiswal भारतीय क्रिकेट टीम का भविष्य?

ADARSH UMRAO

Leave a Comment